Stay Tuned
Subscribe To Our Newsletter

Vivo V9 (19:9 FullView Display, Pearl Black) with Offers
M.R.P.: 23,990.00
Our Price: 22,990.00

Login







Vivo V9 (19:9 FullView Display, Pearl Black) with Offers
M.R.P.: 23,990.00
Our Price: 22,990.00

Who Testified Against Bhagat Singh? | किसने भगत सिंह के खिलाफ गवाही दी?
blog

Who Testified Against Bhagat Singh? | किसने भगत सिंह के खिलाफ गवाही दी?

By on March 30, 2018

Who Testified Against Bhagat Singh? | किसने भगत सिंह के खिलाफ गवाही दी?

 

बहुत कम लोग जानते हैं कि दो लोग कौन थे जिन्होंने भगत सिंह के खिलाफ गवाही दी थी। जब दिल्ली में भगत सिंह पर अंग्रेजों की अदालत में असेंबली में बम फेंकने का मुकद्दमा चला तो। शोभा सिंह ने भगत सिंह और उनके दोस्त बट्टूकेश्वर दत्त के खिलाफ गवाही दी और दूसरा गवाह था शादी लाल। दोनों को वतन से किये गये इस विश्वासघात का इनाम मिला। दोनों को न सिर्फ “सर” का शीर्षक दिया गया बल्कि कई अन्य लाभ भी दिए गए थे। आज कनॉट प्लेस में सर शोभा सिंह स्कूल में दाखिले के लिए लोगों की लम्बी कतार लगती है। शादी लाल ने बागपत के निकट अपार संपत्ति प्राप्त की थी। आज भी, श्यामली से शादी लाल के वंशज चीनी मिल और शराब के कारखानों के मालिक है। सर शादीलाल और सर शोभा सिंह हमेशा भारतीय लोगों की नजरों में नफरत के पात्र थे। शादी लाल को तो मरने के बाद भी तिरस्कार झेलना पड़ा था। उसकी मृत्यु पर गांव के किसी भी दुकानदार ने कफन के लिए कपड़ा देने से इंकार कर दिया था। शादी लाल का अंतिम संस्कार करने के लिए उसके लड़के दिल्ली से कफ़न लाये थे। शोभा सिंह भाग्यशाली रहा। उसे और उसके पिता, सुजन सिंह (उसके नाम पर पंजाब में कोट सुजान सिंह गांव और दिल्ली में सूजन सिंह पार्क), को राजधानी दिल्ली सहित देश के कई हिस्सों में हजारों एकड़ जमीन मिली और बहुत पैसा भी। शोभा सिंह के बेटे, खुशवंत सिंह ने शौकिया पत्रकारिता की शुरुआत की और मशहूर हस्तियों के साथ संबंध बनाना शुरू कर दिया। सर शोभा सिंह के नाम पर एक चैरिटबल ट्रस्ट का गठन किया गया, जो अन्य स्थानों पर स्कूलों, धर्मशालाएं और अस्पतालों आदि बनवाता तथा मैनेज करता। आज, दिल्ली में कनॉट प्लेस के निकट बाराखंबा रोड पर मॉडर्न स्कूल नामक विद्यालय, शोभा सिंह की जमीन पर स्थित है और इसे सर शोभा सिंह स्कूल के नाम से जाना जाता है। खुशवंत सिंह ने अपने पिता को देशभक्त बनाने के लिए अपने संपर्कों का इस्तेमाल किया, उन्होंने खुद को दूरदर्शी और निर्माता के रूप में साबित करने के लिए अपनी पूरी कोशिश की। खुशवंत सिंह ने खुद को एक इतिहासकार के रूप में साबित करने की कोशिश की और अपने तरीके से कई घटनाओं की व्याख्या की। खुशवंत सिंह ने भी स्वीकार किया कि उनके पिता शोभा सिंह 8 अप्रैल, 1 9 2 9 को केंद्रीय विधानसभा में उपस्थित थे, जहां भगत सिंह और उनके सहयोगियों ने धुआं बम का इस्तेमाल किया था। खुशवंत सिंह के अनुसार, बाद में शोभा सिंह ने यह गवाही दी, शोभा सिंह 1 9 78 तक जिंदा रहे और दिल्ली में हर छोटे बड़े कार्यक्रम में उन्हें अतिथि के रूप में आमंत्रित किया जाता था। हालांकि उन्हें कई स्थानों पर अपमानित भी होना पड़ा था लेकिन उसे और उसके परिवार को कभी भी इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ा। खुशशुवंत सिंह का ट्रस्ट हर साल सर शोभा सिंह मेमोरियल व्याख्यान का आयोजन करवाता है , जिसमे बड़े-बड़े नेता और लेखक अपने विचार प्रस्तुत करते है। लोगों को तो पता भी नहीं है शोभा सिंह की असलियत का और वो वहां अनजाने में उसकी तस्वीर पर फूल माला चढ़ा आते है।

आजादी के खिलाफ लड़ने वाले स्वतंत्रता सेनानियों के खिलाफ और भी गवाह थे :-

  • शोभा सिंह
  • शादी राम
  • दिवान चन्द फ़ोर्गाट
  • जीवन लाल
  • नवीन जिंदल की बहन के पति का दादा
  • भूपेंद्र सिंह हुड्डा का दादा

Mi LED Smart TV 4A 108 cm (43)

Mi LED Smart TV 4A 108 cm (43)
List Price: Rs.25999
Our Price: Rs.22999

Flipkart

TAGS
RELATED POSTS

LEAVE A COMMENT